कुरआन मजीद पर यह लिखकर अशफाक ने चूमा था फांसी का फंदा

डॉ. शाह आलम राना, एग्जीक्यूटिव एडीटर-ICN लखनऊ : अशफाक उल्ला खां एक ऐसे क्रांतिवीर जो वतन की आजादी के लिए महज सत्ताईस साल की उम्र में कुर्बान हो गए। उनकी रगों में बहता लहू का हर एक कतरा सिर्फ इस देश की आजादी के लिए ही था। वे देशभक्ति की ऐसी मिसाल हैं जिनका बस नाम ही काफी है। अशफाक के लिखे वे राज जो उनकी डायरी के पन्नों में दफ्न थे, उनकी तहें पहली बार खोली जा रही हैं। जून, 2011 गर्मियों की बात है। अशफाकके शाहजहांपुर स्थित पुश्तैनी…

Read More

शेष विश्व के लिए अनदेखा अनजाना बेहतरीन पर्यटन-स्थल : कोस्टारीका

चन्द्रकान्त पाराशर , एडीटर-ICN हिंदी   लिमोन/कोस्टा रीका(मध्य अमेरिका) : एक बहुत सुंदर और सुरक्षित देश है कोस्टा रीका, इसलिए इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि यह पर्यटकों विशेषकर प्रकृतिप्रेमी व शान्त जीवन यापन करने वाले प्रवासियों की पसंद के रडार पर बना ही रहता है। वैसे भूगोल के हिसाब से उत्तरी अमरीका एवं दक्षिणी अमेरिका को जोड़ने वाले केंद्रीय स्थलजलडमरु मध्य (इस्थमस)पर कोस्टा रीका देश अवस्थित है,यह उत्तरी अमेरिका का हिस्सा है लेकिन लैटिन अमरीकन सांस्कृतिक विरासत को अपने में समेटे हुए प्रतीत होता है। सांस्कृतिक विरासत किसी…

Read More

अमर कवि अयोध्यासिंह उपाध्याय”हरिऔध” के व्यक्तित्व व कृतित्व पर सिडनी में”स्मृति-आयोजन” सम्पन्न

चन्द्रकान्त पाराशर (शिमला हिल्स) , एडीटर-ICN हिंदी  नई दिल्ली : 10जनवरी विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर आस्ट्रेलिया के सिडनी शहर में पंडित अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध”(1865-1947 )की कलात्मक लेखन-शैली एवं साहित्य में उनके योगदान  पर  पद्मश्री लीलाधर जगूड़ी की अध्यक्षता में एक साहित्यिक विमर्श व काव्य-पाठ कार्यक्रम का जूम आभासी माध्यम द्वारा अद्भुत आयोजन किया गया। समारोह का आरम्भ हरिऔध जी की पौत्री श्रीमती आशा शर्मा के व्यक्तव्य से हुआ, जिसमें उन्होंने हरिऔध जी के संतान के प्रति अनुशासित नियमों आदि को रेखांकित करते हुए उनकी बहुमुखी प्रतिभा सम्बन्धी…

Read More

10 जनवरी विश्व हिन्दी दिवस

सुदूर देश ऑस्ट्रेलिया में अमर कवि अयोध्यासिंह उपाध्याय”हरिऔध” की लेखन-शैली के अतुल्य योगदान पर उनकी तीसरी व चौथी पीढ़ी द्वारा “स्मृति-आयोजन”। चन्द्रकान्त पाराशर (शिमला हिल्स) , एडीटर-ICN हिंदी  नई दिल्ली : सुदूर देश ऑस्ट्रेलिया के सिडनी शहर में खड़ीबोली हिन्दी में पहला महाकाव्य “प्रिय प्रवास” लिखने वाले अमर कवि अयोध्यासिंह उपाध्याय”हरिऔध” की तीसरी व चौथी पीढ़ी क्रमशः उनकी पौत्री आशा शर्मा व प्रपौत्री अपर्णा वत्स द्वारा “विश्व हिन्दी दिवस” के अवसर पर दिनांक 10 जनवरी को “हरिऔध स्मृति अंतरराष्ट्रीय काव्य विमर्श व कवि सम्मेलन” उनकी लेखन-शैली के अतुल्य योगदान को…

Read More

16वां अयोध्या फिल्म फेस्टिवल संपन्न, ऐतिहासिक रहा आयोजन

अवाम का सिनेमा – कई देशों की फिल्मों का प्रदर्शन – अन्य कई कार्यक्रम भी हुए आयोजित अयोध्याः काकोरी एक्शन के महानायक पं. राम प्रसाद ‘बिस्मिल’ और अशफाक उल्ला खां की स्मृति में उत्तर प्रदेश का पहला और चर्चित दो दिवसीय 16वां अयोध्या फ़िल्म फेस्टिवल सम्पन्न हो गया। फेस्टिवल कई मायनों में। ऐतिहासिक रहा। फेस्टिवल में सिनेमा और साहित्‍य जगत की दिग्गज हस्तियों ने शिरकत की। राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, बेनीगंज के सभागार में हुए फेस्टिवल में सरोकारी फिल्मों का प्रदर्शन, फोटो एवं दस्तावेजों की प्रदर्शनी, सेमीनार, नाटक, पोस्टर एवं…

Read More

16वां अयोध्या फिल्म फेस्टिवल में होगा फिल्मकारों का जमावड़ा

अवाम का सिनेमा – 10-11 नवंबर को अशफाक-बिस्मिल सभागार, अयोध्या में होगा आजोजन अयोध्याः काकोरी एक्शन के महानायक पं. राम प्रसाद ‘बिस्मिल’ और अशफाक उल्ला खां की स्मृति में आयोजित होने वाले उत्तर प्रदेश का पहले चर्चित फिल्म समारोह ने धड़कने बढ़ा दी हैं। राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, बेनीगंज के सभागार में 10-11 नवंबर को आयोजित होने वाले अयोध्या फिल्म फेस्टिवल में सरोकारी फिल्मों का प्रदर्शन, फोटो एवं दस्तावेजों की प्रदर्शनी, सेमीनार, नाटक, पोस्टर एवं रंगोली प्रतियोगिता, फैशन शो, पुस्तक प्रदर्शनी, फिल्म मेकिंग वर्कशॉप आदि विविध सामाजिक-सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन…

Read More

दि हाफ वर्ल्ड : तलाश जड़ों की

लखनऊ, दिनांक 11.09.2022. : क्या सृष्टि ने नर और नारी को रचते समय नारी को कुछ कम दिया है? क्या प्रकृति ने दोनों के मध्य संरचनात्मक बंदरबाँट की है? क्या यह विभेद धार्मिक है, या यह ऐतिहासिक है या यह अंतर राजनीतिक है? यह मानवीय प्रवृत्ति है अथवा कोई सोचा समझा षड्यंत्र? जब हम समाज और नारी का कोई समीकरण समझने का प्रयास करते हैं तो अधिकांशतः ढाल पुरुष की ओर सरकती हुई ही क्यों प्रतीत होती है? ये ढेर सारे प्रश्न एक ऐसे मंच की रचना अनायास ही करते…

Read More

के. आसिफ चंबल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल: चंबल में आके तो देखो, सांस्कृतिक हलचल का केन्द्र बना फिल्म समारोह

इटावा : विश्व सिनेमा को मुगले आजम जैसी ऐतिहासिक फिल्म देने वाले महान फिल्म निर्देशक के. आसिफ की स्मृति में ‘के.आसिफ चंबल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल’ के 6वें संस्करण सांस्कृतिक हलचल का केन्द्र बना। जिसमें देश और दुनिया की तमाम प्रशंसित फिल्मों के प्रदर्शन के साथ ही पहले दिन कई रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुए। इटावा के पंचायत राज राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय के सभागार में फिल्म फेस्टिवल का उद्घाटन चंबल संभाग के पुरातत्त्व अधिकारी डॉ. अशोक शर्मा, प्रसिद्ध दस्तावेजी छायाकार सुनील दत्ता, सिनेमेटोग्राफर शारिक हैदर नकवी, फिल्म निर्देशक उमेश गोन्हजे,…

Read More

6वें चंबल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का समापन, देश-विदेश की कई फिल्मों को दिए गए अवार्ड

इटावा : दो दिवसीय के.आसिफ चंबल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का रविवार को समापन हो गया। पंचायत राज राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय सभागार में हुए इस फिल्म फेस्टिवल में दो दिनों में देश-विदेश की तमाम फिल्मों को दिखाया गया। फिल्म निर्माण पर एक वर्कशॉप भी हुई और सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुए।समापन के मौके पर के.आसिफ चंबल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ज्यूरी ने यहां दिखाई फिल्मों में से चुनी गई फिल्मों को अवार्ड दिए। फीचर फिल्म कैटेगरी में बेस्ट भारतीय फीचर फिल्म का अवार्ड नीलेश उपाध्याय की फिल्म ‘बन्नी’ को मिला जबकि इंटरनेशनल…

Read More

इटावा में के.आसिफ चंबल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का भव्य उद्घाटन

इटावा: विश्व सिनेमा को मुगले आजम जैसी ऐतिहासिक फिल्म देने वाले महान फिल्म निर्देशक के.आसिफ की स्मृति में शनिवार को ‘के.आसिफ चंबल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल’ के 6वें संस्करण का भव्य उद्घाटन हुआ। देश और दुनिया की तमाम प्रशंसित फिल्मों के प्रदर्शन के साथ ही पहले दिन कई रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुए। इटावा के पंचायत राज राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय के सभागार में फिल्म फेस्टिवल का उद्धाटन नगरपालिका परिषद इटावा की अध्यक्ष नौशाबा फुरकान, चंबल संभाग के पुरातत्त्व अधिकारी डॉ. अशोक शर्मा, छायाकार सुनील दत्ता, सिनेमेटोग्राफर शारिक हैदर नकवी, फिल्म…

Read More