जर्मनी में आई सी एन का हरित घोष

आई सी एन ने रूरल इंटरप्रिन्यूरशिप मिशन को भारत की धरती से प्रारंभ कर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सर्वप्रथम थाइलैंड व तत्पश्चात वियतनाम में अपने वैश्विक विशेषज्ञों व सहयोगियों के माध्यम से वेबिनॉर व वेबिशॉप के माध्यम से सफलतापूर्वक आयोजित किया और इसी श्रृंखला में 18 सितंबर, 2020 को वीस्बॉडन,जर्मनी में अपना तृतीय कार्यक्रम आयोजित किया।

वीस्बॉडन,जर्मनी : धरती ‘ग्रीन’ है इसीलिए इस पर जीवन है, इस पर आप हैं और हम हैं। इसीलिए यहाँ सपने हैं, संभावनाएं हैं और भूख है। ‘जीवन’, ‘जीविका’ व ‘संभावना’, शायद यह दुनिया का सबसे सशक्त समीकरण है जिस पर संसार में केवल उसी तरह चुन-चुन कर प्रयोग हुये जैसे किसी महासागर में केवल कुछ पेंसिल की नोक के बराबर उपस्थित टापुओं को ही ऑक्सीजन दी गई हो और उसका परिणाम यह हुआ कि भूख और अभाव के काले आसमान पर केवल कुछ नाम मात्र के ही सितारे टिमटिमाते दिखते हैं और सारा का सारा आकाश अंधकारमय है।

भूख के विरुद्ध डॉ नॉर्मन बोरलॉग ने सबसे पहले छोटे-बड़े देशों की सरहदों को नज़र अंदाज़ करते हुये ‘हरित क्रांति’ के रूप में पहला मोर्चा खोला और यह समय से भूख का पहला विश्वयुद्ध था। यह परीक्षा भूख ने आला दर्जे के नंबरान के साथ उत्तीर्ण की और डॉ नॉर्मन बोरलॉग के नेतृत्व में विश्व ने पहली बार अनुभव किया कि मानवता के लिये वैश्विक एकजुटता का वास्तविक अर्थ क्या है।

डॉ नोर्मन बोर्लाक ने आजीवन मानवता के पोषक के रूप में ‘जीवन’ व ‘जीविका’ के मध्य विशद संभावनाओं के समीकरण तलाशे और अपनी मृत्यु पर दुनिया के लिये हरित क्रांति की विरासत व ‘जीवन’ व ‘जीविका’ के मध्य नये पुल बनाने की ज़िम्मेदारी छोड़ गये। आई सी एन मीडिया ग्रुप मानवीय संवेदना के जिस धरातल पर जन्मी है, उसकी माटी में डॉ नॉर्मन बोरलॉग, डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन, गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर, डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम, डॉ बी सी रॉय व मेजर ध्यान चंद जैसे विश्वमानवों की सुगंध है। यही कारण है कि आई सी एन ने ‘एकला चलो रे’ की धुन पर इन्हीं वैश्विक महापुरुषों से प्रेरणा प्राप्त कर वैश्विक मानवता का अपना जन-आंदोलन प्रारंभ किया जिसमें निरंतर मनुष्यता के प्रति संवेदित विश्व के हर क्षेत्र के विशेषज्ञ व सहयोगी जुड़ते गये और आज आई सी एन एक ऐसा वैश्विक मंच बन गया जिसमें विश्व के 167 देशों के  ऊर्जावान प्रतिनिधि हैं।

डॉ नॉर्मन बोरलॉग के ‘हरित व समृद्ध विश्व’ के स्वप्न को अंगीकार करते हुये जब आई सी एन ने वर्तमान की समेकित वैश्विक परिस्थितियों का सिंधु मंथन किया तो उसमें से ‘रूरल इंटरप्रिन्यूरशिप’ का मंत्र निकला। ‘रूरल इंटरप्रिन्यूरशिप’ अर्थात काले आकाश में नगरीय विकास के टिमटिमाते हुये सितारों के साथ पूरे आसमान को चमकाने की मुहिम। विश्व में मानव हर स्थान पर है इसलिए भूख भी हर जगह उपस्थित है। इसलिए समाधान और तृप्ति भी हर जगह मौजूद होनी ही चाहिए। यह संपूर्ण तृप्ति तब तक धरती पर एक ग्रीन कालीन जैसी नहीं बिछ सकती जब तक ‘जो व्यक्ति जहाँ है, वहीं विकसित हो’ का फार्मूला पूरे विश्व में लागू नहीं होता। अपनी ‘रूरल इंटरप्रिन्यूरशिप मिशन’ की अंतर्राष्ट्रीय ग्रीन श्रृंखला के अंतर्गत आई सी एन का उद्देश्य विश्व के हर हिस्से में रूरल कृषि संबंधी उद्योगों की संभावना को तलाशना, उसे तराशना और उसे प्रायोगिक स्तर पर लागू करने के लिये वातावरण तैयार करना है।

आई सी एन ने इस मुहिम को भारत की धरती से प्रारंभ कर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सर्वप्रथम थाइलैंड व तत्पश्चात वियतनाम में अपने वैश्विक विशेषज्ञों व सहयोगियों के माध्यम से वेबिनॉर व वेबिशॉप के माध्यम से सफलतापूर्वक आयोजित किया और इसी श्रृंखला में 18 सितंबर, 2020 को वीस्बॉडन/जर्मनी में अपना तृतीय कार्यक्रम आयोजित किया। भले ही वह अविकसित अथवा विकासशील देशों जैसा गंभीर स्तर का न हो किंतु दुनिया के हर देश में ‘जीवन’ व ‘जीविका’ के बीच का समीकरण एक सीमा तक अस्वस्थ अवश्य है जिसकी समय रहते उचित चिकित्सा आवश्यक है। ‘अपनी सहायता स्वयं अपने आप’ का ज़मीन से जुड़ा यह दिव्य अभियान वैश्विक मनुष्यत्व को एक सकारात्मक ऊर्जा देगा – यही आई सी एन का विश्वास भी है और मिशन भी।

कार्यक्रम के आयोजक यूरोप  से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाले जर्मनी से सीनियर एसोसिएट एडिटर साईरस एत्मीनान (Cyrus Etminan, Germany) ने अपने साथी तथा सहयोगी आयोजको को कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिये धन्यवाद देते हुये कहा कि “इंटरनेशनल रूरल-एंटरप्रेन्योरशिप(अंतर्राष्ट्रीय ग्रामीण-उद्यमिता) का माडल ही वैश्विक विकास का सपना पूरा कर सकता है।

आई०सी०एन० समूह के चीफ एडवाइज़र प्रोफेसर के.वी.नागराज ने कहा कि कि “विकासशील देशो मे प्रगति का मार्ग ग्रामीण-विकास से ही होकर जाता है इसलिये ग्राम-विकास ही सामूहिक राष्ट्रीय-नीतियो की प्राथमिकता होनी चाहिये”।

आई०सी०एन० समूह के सीनियर एडवाइज़र एवं सीनियर एडिटर राकेश लोहुमी ने हार्दिक प्रसन्नता व्यक्त करते हुये कहा कि भारतवर्ष के लिये वर्तमान परिस्थितियों में “इंटरनेशनल रूरल इंटरप्रिन्यूरशिप” ही एकमात्र विकल्प है जो भारतीय समृद्धि व देश के सर्वांगीण विकास की गारंटी दे सकता है।

आई०सी०एन० के एडीटर (इंटरनेशनल) राजीव सक्सेना ने कहा कि इंटरनेशनल रूरल-एंटरप्रेन्योरशिप के अंतर्गत ग्रामो मे स्वरोज़गार उपलब्ध करवा दिया जाए तो कई राष्ट्रीय-मानवीय समस्याओ का समाधान प्राप्त किया जा सकता है।उन्होने आई०सी०एन० द्वारा भविष्य मे संचालित किये जाने वाले कार्यक्रमो का चित्रांकन करते हुये कृषि आधारित उद्योगो के बारे मे विस्तृत जानकारी दी।

आई०सी०एन० समूह के एडिटर-इन-चीफ डॉ. शाह अयाज़ सिद्दीक़ी ने कहा कि आई.सी.एन. के अनेक सर्वहितकारी मिशनों में से एक मिशन “इंटरनेशनल रूरल-एंटरप्रेन्योरशिप” है जिसका अर्थ ग्रामीणों के सामाजिक, सांस्कृतिक व आर्थिक हितों के संवर्धन व संरक्षण की दृष्टि से उन्हें “गोद लेना” है तथा उन्हें सामूहिक रूप से जोड़ कर उन्हें  सामाजिक व आर्थिक रूप से स्वयं बेहतर जीवन स्तर प्राप्त करने योग्य बनाना है।

आई०सी०एन० समूह के सीनियर एग्जीक्यूटिव एडीटर तरुण प्रकाश श्रीवास्तव ने वेब-संगोष्ठी का समापन करते हुये कहा कि “देश का सर्वांगीण विकास केवल तभी संभव हेै जब देश का हर नागरिक जहाँ पर है, वहीं विकसित हो सके।”

कार्यक्रम मे बड़ी संख्या मे सम्मानित अतिथियो ने सम्मिलित होकर ग्रामीण विकास और स्वावलंबन का बिगुल फूंका जिसमे से भारत से आई०सी०एन० समूह के एडवाईज़र  एंड चीफ कंसल्टिंग एडिटर प्रोफेसर प्रदीप माथुर (Prof. Pradeep Mathur),आई०सी०एन० मीडिया हाउस के ग्रुप एडिटर विजय कुमार वर्मा (Vijay Kumar Verma),आई०सी०एन० मीडिया हाउस के सीनियर कंसल्टिंग एडिटर डॉ. सुशील सोलोमन (Dr. Sushil Solomon, Ex. VC CSA Agriculture University Kanpur), आई०सी०एन० मीडिया हाउस के सीनियर कंसल्टिंग एडिटर कमल नयन मिश्रा (Kamal Nayan Mishra, Retd. Major General, Indian Army),आई०सी०एन० मीडिया हाउस के सीनियर कंसल्टिंग एडिटर प्रोफेसर अवध राम (Prof Awadh Ram, Ex. VC MGKV Varanasi),सीनियर कंसल्टिंग एडिटर प्रोफेसर अख्तर हसीब ( Prof. Akhtar Haseeb, Ex-VC NDUAT ), थाईलैंड से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के सीनियर कंसल्टिंग एडिटर डॉ. राम भुजेल (Dr. Ram Bhujel, Director Aqua Centre AIT Thailand), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के कंसल्टिंग एडिटर नीलेश एस. इंगले ( Lt. Colonel Nilesh S. Ingle, the Joint Director DG Recruiting New Delhi),आई०सी०एन० के कंसल्टिंग एडिटर प्रोफेसर जे. एस. यादव ( Prof. J.S. Yadav)थाईलैंड से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के कंसल्टिंग एडिटर वेरापन सुथीपथ (Varaporn Suthipeth), उत्तरी अमेरिका से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाले तथा संयुक्त राज्य अमेरिका के निवासी डेविड बी (David B. Shea, USA), ओशियानिका से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाले तथा ऑस्ट्रेलिया के कोनरॉड पापारोवा (Conrad Paparowa, Australia), दक्षिण अमेरिका से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाले तथा ब्राज़ील के गेहस्सान ऐकी (Ghassan Aki (Brazil), यूरोप से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाले तथा यूक्रेन के युगेनी (Yiugeni, Ukrain), उत्तरी अमेरिका से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व (दूसरे) करने वाले तथा कनाडा के पीटर कमेरमेन (Pieter Kmerman, Canada/Netherland), अफ़्रीका से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाले तथा ज़ामबिया के मर्विन सिक-ओता (Marvin Sikota, Zambia), थाईलैंड से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के  सीनियर एसोसिएट एडिटर विनोद बेलानी (Vinod Belani, Thailand), मध्य एशिया से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाले तथा यू.ए.ई़ के जमाल अब्दुल्ला (Jamal Abdullah Al Shamsi, UAE), दक्षिण-पूर्व एशिया से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाली तथा वियतनाम की क्रिस्टीन टी (Christeen Thi, Vietnam), यूरोप से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व (दूसरे) करने वाले तथा यूनान के एफ्रोडाइट माकापोलो (Aphrodite Machopolou, Greece), दक्षिण-पूर्व एशिया से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व (दूसरे) करने वाले तथा इंडोनेशिया के मैक्स रॉबिंसन (Max Robbynson, Indonesia),दक्षिण-पूर्व एशिया से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाले मलेशिया के डॉ विन्सेंट तन ( Dr Vincent Tan, Malaysia), दक्षिण-पूर्व एशिया से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाली एसोसिएट एडिटर श्रीकुल. के ( Srikul.K, Thailand), इंडोनेशिया दक्षिण-पूर्व एशिया से आई०सी०एन० मीडिया हाउस का प्रतिनिधित्व करने वाली तथा लाओस के थाउ सिथी (Tho Sithi, Laos), यूरोपियन आई०सी०एन० मीडिया हाउस के सीनियर एसोसिएट एडिटर तथा जर्मनी से साईरस एत्मीनान (Cyrus Etminan, Germany), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के कंसल्टिंग एडिटर प्रोफेसर मसर्रत हसीब (Prof. Masarrat Haseeb, Ex. Principal Scientist-CSIR), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस की मनोनीत कंसल्टिंग एडिटर डॉ. नीलीमा गर्ग (Dr. Neelima Garg, Principal Scientist & Head ICAR-CISH), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के सीनियर कंसल्टिंग एडिटर डॉ. भोला नाथ मिश्रा (Dr. Bhola Nath Mishra, Convener of SJM), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के मैनेजिंग एडिटर डॉ. सुधांशु सिंह (Dr. Sudhanshu Singh), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के चीफ कंसल्टिंग एडिटर डॉ. उपशम गोयल (Dr. Upsham Goel), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के सीनियर एग्जीक्यूटिव एडिटर तरुण प्रकाश श्रीवास्तव (Tarun Prakash Srivastava), आई०सी०एन० मीडिया हाउस के  एडिटर-इन-चीफ डॉ शाह अयाज़ सिद्दीक़ी (Dr. Shah Ayaz Siddiqui, Editor-in-Chief, ICN Media Group), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के एडिटर प्रोफेसर आर.के. यादव (Prof. R.K. Yadav, Dean at Lakhimpur Campus  Agriculture University of Kanpur), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के  एडिटर प्रोफेसर जसवंत सिंह (Prof. Jaswant Singh, Member-Antarctica & Arctic), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस की एडिटर बरनाली बोस (Barnali Bose), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के एडिटर एम. एस. मज़ूमदार (M.S. Mazumdar), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के एडिटर मुहम्मद ज़ैद (Mohammad Zaid), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के एडिटर सी.पी़ सिंह (C.P. Singh), रशिया से आई०सी०एन० मीडिया हाउस की एग्जीक्यूटिव एडिटर लीडिया मलकीना (Lidiya Myalkina, Russia), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस की एग्जीक्यूटिव एडिटर डॉ. श्वेता (Dr. Shweta, India), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के एग्जीक्यूटिव एडिटर डॉ शाह नवाज़ सिद्दीकी (Dr. Shah Nawaz Siddiqui), भारत से आई०सी०एन० मीडिया हाउस के एग्जीक्यूटिव एडिटर हार्दिक मुरारका (Hardik Murarka) आदि बुद्धिजीवियो शामिल है जिन्होने वेब-संगोष्ठी (वेब-सेमीनार) मे सम्मिलित होकर ग्रामीणो का मनोबल बढ़ाया।

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0

Related posts