एसजेवीएन ने विश्व पर्यावरण दिवस 2021 मनाया

चन्द्रकान्त पाराशर, एडिटर, ICN हिन्दी

“इस वर्ष की थीम “पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली: पुनर्कल्पना, पुनः सृजन, पुनर्स्थापना” ।

शिमला : एसजेवीएन ने शिमला में अपने कारपोरेट मुख्यालय में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया। नन्‍द लाल शर्मा, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक ने गीता कपूर निदेशक (कार्मिक) तथा सुशील कुमार शर्मा, निदेशक (विद्युत) की गरिमामयी उपस्थिति में डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से सभी कर्मचारियों को पर्यावरण संरक्षण की शपथ दिलाई।

कर्मचारियों को वर्चुअली संबोधित करते हुए  नन्‍द लाल शर्मा ने कहा कि “एसजेवीएन राष्ट्र के सतत विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। हम सतत विकास के सभी तीन स्तंभों – आर्थिक-विकास, सामाजिक-विकास एवं पर्यावरण विकास को समान महत्व देने में विश्वास करते हैं। एसजेवीएन की विभिन्न पहलें :यथा सतलुज आराधना का आयोजन, विभिन्न परियोजनाओं में वृक्षारोपण अभियान, कारपोरेट मुख्‍यालय तथा परियोजनाओं में ऊर्जा-संरक्षण के उपाय, जनता के मध्‍य जागरूकता उत्‍पन्‍न करने तथा पर्यावरण संवेदनशीलता उत्‍पन्‍न करने में सहयोग करते हैं। उन्होंने कहा कि यह हम में से प्रत्येक का विशेषाधिकार है कि हम पारिस्थितिकी तंत्र की पुनर्कल्पना, पुनर्निर्माण तथा पुनर्स्थापन की दिशा में सजग रूप से योगदान दें, ताकि हम अपनी आने वाली पीढ़ियों को जीने के लिए एक बेहतर विश्व प्रदान कर सकें।

पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में, एसजेवीएन ने कारपोरेट मुख्‍यालय, शिमला में कार्यरत अपने कर्मचारियों के लिए आसपास के पारिस्थितिकी तंत्र तथा जैव विविधता पर एक फोटोग्राफी प्रतियोगिता एवं पारिस्थितिकी तंत्र के पुनरुद्धार पर स्लोगन-लेखन प्रतियोगिता हेतु सभी प्रविष्टियों को डिजिटल रूप से आमंत्रित किया गया था। पुरस्कार विजेताओं को अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक महोदय ने पुरस्कार प्रदान किए।

यह वर्ष “पारिस्थितिकी तंत्र के पुनरुद्धार पर संयुक्त राष्ट्र दशक 2021 – 2030” का औपचारिक शुभारंभ है। पर्यावरण के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए पर्यावरण संरक्षण और पारिस्थितिकी तंत्र के पुनरुद्धार पर फिल्म को भी कार्यालय परिसर में स्‍थापित विभिन्न स्क्रीनों पर प्रदर्शित किया गया।

विश्व पर्यावरण दिवस के आयोजन के दौरान सामाजिक दूरी के एमएचए दिशानिर्देशों का पालन किया गया।

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0

Related posts