“वैश्विक हिन्दी की चुनौतियाँ एवम् उनके भाषा वैज्ञानिक समाधान “विषय पर केन्द्रित अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का सफल आयोजन

चन्द्रकान्त पाराशर, एडिटर, ICN हिन्दी

शिमला हिल्स : भारत संघ की सम्पर्क एवं राजभाषा हिन्दी के संबर्धन में रत दूर शिक्षा निदेशालय, *महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र, विश्व हिंदी सचिवालय, मॉरीशस, भारतीय उच्चायोग, त्रिनिदाद एवं टोबागो, न्यू मीडिया सृजन संसार ग्लोबल फाउंडेशन एवं सृजन ऑस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय ई-पत्रिका द्वारा वैश्विक हिंदी की चुनौतियाँ एवं उनके भाषा वैज्ञानिक समाधान” विषय पर दिनांक 17/04/2021 को भारतीय समय शाम 8.00 बजे अंतरराष्ट्रीय ई संगोष्ठी का सफल आयोजन हुआ ।

संगोष्ठी की बीज वक्तव्य डॉ. वरुण कुमार, निदेशक, केंद्रीय हिन्दी प्रशिक्षण संस्थान, राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रस्तुत किया गया । महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र में प्रोफेसर एवं दूरस्थ शिक्षा के निदेशक प्रो हरीश अरोड़ा ने संगोष्ठी में अध्यक्षता की।

मुख्य अतिथि श्री अरुण कुमार साहू, उच्चायुक्त, भारतीय उच्चायोग, त्रिनिदाद एवं टोबागो थे । संगोष्ठी में प्रो. विनोद कुमार मिश्र, महासचिव, विश्व हिंदी सचिवालय, मॉरीशस जी का सान्निध्य रहा ।

संगोष्ठी में समापन व आशिर्वचन भाषण वरिष्ठ और प्रसिद्ध पत्रकार श्री राहुल देव जी ने दिया जो बहुत ही महत्वपूर्ण और संवेदनशील रहा । कुल मिलाकर चूंकि अंतरराष्ट्रीय ई संगोष्ठी का आयोजन सभी हिंदी साहित्यकारों, निजी व सरकारी हिंदी सेवियों, हिंदी प्राध्यापकों व शिक्षकों और हिंदी प्रचारकों को बहुत ही लाभदायक और महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत कराया । कतिपय सरकारी सेवाओं से सेवानिवृत्त हिन्दी सेवियों ने भी उत्त्साहपूर्ण अपनीप्रतिभागिता दी ।इस संगोष्ठी के आयोजन का श्रेय डॉ शैलेश शुक्ल और श्रीमती पूणम चतुर्वेदी शुक्ल को जाता है ।

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0

Related posts